Movie prime

हरियाणा में किसानों को सरकार ने दिया दिवाली गिफ्ट, बासमती धान की कीमतें बढ़ी; देखें ताजा भाव

haryana mandi dhan bhav today,Haryana dhan rate,Dhan mandi rate,dhan mandi rate up today

 
paddy rates
धान का भाव,धान के मंडी,धान के ताजा भाव,1509 धान का भाव,धान का ताजा भाव,rice rates,paddy rates,munji rates,dhaan rates,world rates,supri rates,sella rates,steam rates,laal 86 rates,punjab rates,highbrid rates

हरियाणा के किसानों के लिए अच्छी खबर है, क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा चावल निर्यातकों के साथ की गई चर्चा के बाद, बासमती धान की खरीद फिर से शुरू हो गई है। इस नई खरीद की बदौलत, किसानों के लिए आये दिन बेहतर हो रहे हैं।

निर्यातकों और किसानों के साथ साथ सरकार भी खुश

पहले, चावल निर्यातक और किसान सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम निर्यात मूल्य को बढ़ाकर 1200 डॉलर प्रति टन करने की मांग कर रहे थे। सरकार ने इस पर ध्यान दिया और आश्वासन दिया कि उनकी मांग पर शीघ्र ही सकारात्मक फैसला लिया जाएगा, और इसके बाद बाजार में बासमती धान की खरीद फिर से शुरू की गई।

किसानों के लिए बड़ी राहत

निर्यातकों द्वारा बासमती धान की खरीद बंद करने से, स्थानीय मिलरों के लिए भी दिक्कतें बढ़ गई थी। बासमती के दामों में 300 से लेकर 400 रुपये प्रति क्विंटल तक की गिरावट आई थी, जिससे किसानों को नुकसान हो रहा था। अब निर्यातकों ने खरीदारी फिर से शुरू कर दी है, और किसानों को अब बाजार मूल्य के अनुसार अच्छा मूल्य मिल रहा है।

भाव में फिर से तेज़ी

इस नई खरीद के बाद, बासमती धान के भाव में फिर से तेज़ी दिख रही है। हाथ से कटी 1692 और 1509 किस्म के धान का मूल्य अब 3600 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच गया है, जबकि इसी किस्म का कंबाइन से निकाला गया धान 3400 रुपए प्रति क्विंटल तक मिल रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार, इस वृद्धि के पीछे कई कारण हैं।

हाथ से कटा धान

हाथ से कटा धान एकदम सूखा मिलता है और उसकी खूशबु बरकरार रहती है। यह धान बहुत गुणधर्मी होता है और इसका स्वाद अत्यंत अच्छा होता है। किसानों के लिए, हाथ से कटा धान एक मूल्यवान विकल्प हो सकता है, जो उनकी आय को बढ़ावा देगा।

कंबाइन से कटा धान

कंबाइन से कटा धान में नमी रहती है, और इसकी खूशबू प्रभावित होती है। इसका मतलब है कि यह धान ज्यादा धूसर हो सकता है, और उसकी खूशबू भी आवश्यक गुणधर्मों को खो सकती है।

किसानों के लिए एक सार्थक कदम

चावल निर्यातकों द्वारा बासमती धान की खरीद की इस नई शुरुआत ने किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण सार्थक कदम साबित होता है। इसके परिणामस्वरूप, बाजार में धान के मूल्य में वृद्धि दर्ज की गई है, जो किसानों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करेगा।

निर्यातकों का सहयोग

निर्यातकों के सहयोग से, किसानों के लिए बाजार में बेहतरीन मूल्य मिलने का आसरा है। यह उनके लिए एक नई खुशखबरी हो सकती है, और उनकी आर्थिक स्थिति को सुधारने में मदद कर सकती है।