देश

Mausam ki Jankari: Heat Wave और बारिश को लेकर IMD ने दी ये ‘खुशखबरी’, अब चुभती जलती गर्मी से मिलेगी राहत

Editor
2 May 2022 9:20 AM GMT
Mausam ki Jankari: Heat Wave और बारिश को लेकर IMD ने दी ये ‘खुशखबरी’, अब चुभती जलती गर्मी से मिलेगी राहत
x

पश्चिम विक्षोभ के कारण दक्षिण हरियाणा और पूर्वी राजस्थान में रविवार दोपहर को बारिश (Rain) होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है. आईएमडी (IMD) के वैज्ञानिक आरके जेनामणि के मुताबिक आगामी पांच दिनों तक देश के ज्यादातर हिसों में लू नहीं चलने का अनुमान है.


पश्चिमी विक्षोभ की ताजा स्थिति ने लू का प्रकोप झेल रहे उत्तर-पश्चिमी भारत (North West India) को रविवार को काफी राहत दी है. यह जानकारी भारत मौसम विभाग (IMD) ने रविवार को दी है. पश्चिम विक्षोभ के कारण दक्षिण हरियाणा और पूर्वी राजस्थान में रविवार दोपहर को बारिश (Rain) होने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है. आईएमडी के वैज्ञानिक आरके जेनामणि के मुताबिक आगामी पांच दिनों तक देश के ज्यादातर हिसों में लू नहीं चलने का अनुमान है. उन्होंने बताया है कि अगले 6-7 दिनों तक तापमान में वृद्धि नहीं होगी और 3 मई को दिल्ली में बारिश होगी.

जेनामणि ने कहा कि पश्चिम राजस्थान के कुछ हिस्सों और महाराष्ट्र के विदर्भ को छोड़कर देश के किसी भी हिस्से में आगामी चार दिनों तक लू चलने के आसार नहीं हैं. मौसम कार्यालय ने कहा कि अगले तीन दिनों के दौरान पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में धूल भरी आंधी, गरज और 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है. इसके साथ ही विदर्भ, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में लू चलने की संभावना है.

पश्चिमी राजस्थान में भीषण गर्मी का प्रकोप

पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में रविवार को भी भीषण गर्मी का प्रकोप रहा और बीकानेर में पारा 47.1 डिग्री सेल्सियस, गंगानगर में 46.9 डिग्री सेल्सियस, बाड़मेर में 46.8 डिग्री सेल्सियस और फलोदी में 46.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र में ब्रम्हापुरी (46.2 डिग्री सेल्सियस) और चंद्रपुर (46 डिग्री सेल्सियस), और नौगांव (45.5 डिग्री सेल्सियस), राजगढ़ (45.4 डिग्री सेल्सियस) और खजुराहो (45.4 डिग्री सेल्सियस) ने भी भीषण गर्मी का सामना किया.

आईएमडी ने एक बयान में कहा, ‘उत्तर पश्चिम भारत के कई हिस्सों में एक-दो दिन में अधिकतम तापमान में तीन से चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने की संभावना है.’ कमजोर पश्चिमी विक्षोभ के कारण कम बारिश के कारण उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में 122 वर्षों में सबसे गर्म अप्रैल का अनुभव हुआ, जहां औसत अधिकतम तापमान क्रमशः 35.9 डिग्री सेल्सियस और 37.78 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. देश में कई स्थानों पर अप्रैल महीने में अब तक का सबसे उच्च तापमान दर्ज किया गया, क्योंकि तेज गर्मी के प्रभाव में पारा 46-47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था.

यूपी के बांदा में टूटा अप्रैल महीने का रिकॉर्ड

पूर्वी उत्तर प्रदेश के बांदा में शुक्रवार को अप्रैल का रिकॉर्ड उच्च तापमान 47.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज, झांसी और लखनऊ, हरियाणा के गुरुग्राम और मध्य प्रदेश के सतना में अप्रैल का अब तक का सबसे अधिक तापमान क्रमश: 46.8 डिग्री सेल्सियस, 46.2 डिग्री सेल्सियस, 45.1 डिग्री सेल्सियस, 45.9 डिग्री सेल्सियस और 45.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.

43.5 डिग्री सेल्सियस के साथ दिल्ली में बृहस्पतिवार और शुक्रवार को 12 साल में अप्रैल का सबसे अधिक अधिकतम तापमान दर्ज किया गया. शनिवार को दिल्ली के स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स मौसम केंद्र में अधिकतम तापमान 47.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. भीषण गर्मी के बीच भारत में बिजली की मांग शुक्रवार को 207.11 गीगावॉट के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई.

Editor

Editor

GazetteToday को 2017 तक लॉन्च किया गया था। डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से समाचार पेश करते हुए, GazetteToday ने अपने शुरुआती लॉन्च के तुरंत बाद महीनों में खुद का नाम बनाया।

    Next Story