देश

खुली मंडी में गेहूं की खरीद साबित हुई सोने पे सुहागा; घटा सरकारी खजाने का बोझ, साथ ही निर्यात से मिल रही विदेशी मुद्रा

Editor
7 May 2022 5:04 AM GMT
खुली मंडी में गेहूं की खरीद साबित हुई सोने पे सुहागा; घटा सरकारी खजाने का बोझ, साथ ही निर्यात से मिल रही विदेशी मुद्रा
x

खुली मंडी में गेहूं की अच्‍छी कीमत मिल रही है जो सोने पे सुहागा साबित हुई है। इससे किसानों को खूब मुनाफा हो रहा है। साथ ही खाद्य सब्सिडी घटने से सरकारी खजाने का भार कम हो गया है। पढ़ें यह रिपोर्ट...


नई दिल्ली। चालू रबी मार्केटिंग सीजन के दौरान खुली मंडी में गेहूं की हो रही खरीद 'सोने पे सुहागा' साबित हुई है। उपज का लाभकारी मूल्य मिलने से जहां किसानों की झोली भरी वहीं खाद्य सब्सिडी घटने से सरकारी खजाने का भार कम हो गया। इतना ही नहीं, जो सरप्लस खाद्यान्न सालोंसाल बोझ बन जाता था वही चालू सीजन में निर्यात के रास्ते विदेशी मुद्रा में तब्दील होने लगा है।

साढ़े चार करोड़ टन से ज्‍यादा स्टाक बचेगा

एफसीआइ जैसी भारी भरकम संस्था भी सरप्लस खाद्यान्न के भारी स्टाक में दबी जा रही थी। खाद्यान्न प्रबंधन के लिए उसे भी अब सांस लेने का अच्छा मौका मिला है। गेहूं की सरकारी खरीद घटने के बावजूद गोदामों में न सिर्फ पर्याप्त खाद्यान्न है बल्कि अगले वर्ष के लिए साढ़े चार करोड़ टन से भी अधिक स्टाक शेष बचेगा।

निजी व्यापारियों को तरजीह

सरकारी नीतियों और अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों ने खाद्यान्न प्रबंधन और कृषि उत्पादों के कारोबार को नया अवसर प्रदान किया है। यूं तो एफसीआइ मंडी में आने वाले अनाज की खरीद के लिए तैयार है लेकिन किसान ही निजी व्यापारियों की और दौड़ रहे हैं।

60 हजार करोड़ की बचत होगी

ऐसे में माना जा रहा है कि सरकारी खरीद का जो लक्ष्य 4.44 करोड़ टन था वह घटकर 1.95 करोड़ टन हो गया है। इससे सब्सिडी में लगभग 60 हजार करोड़ की बचत होगी। गेहूं के सरप्लस ढाई करोड़ टन की इस खरीद में अतिरिक्त खर्च लगभग आठ हजार करोड़ रुपये होने का अनुमान था।

तीन हिस्सों में दी जाती है खाद्य सब्सिडी

खाद्य सब्सिडी तीन हिस्से में दी जाती है। लागत मूल्य और निर्गत मूल्य (इश्यू प्राइस) के बीच के अंतर को सब्सिडी से पूरा किया जाता है। इसमें ट्रांसपोर्टेशन लागत, हैंडलिंग चार्जेज, स्टोरेज लासेस, ब्याज की लागत, आपरेशनल लासेस और प्रशासनिक खर्च शामिल होता है।

प्रति क्विंटल गेहूं पर आता है 340 रुपये का अतिरिक्त खर्च

एफसीआइ के आंकड़ों के मुताबिक प्रति क्विंटल गेहूं पर कुल 340 रुपये का अतिरिक्त खर्च आता है, जिसमें प्रति क्विंटल पर मंडी शुल्क 72 रुपये, कमीशन और आढ़तिया शुल्क 40 रुपये, बोरे का खर्च सवा सौ, लेबर व ट्रांसपोर्ट का खर्च 45 रुपये प्रति क्विंटल होता है। जबकि स्टोरेज 3.24 रुपये और बैंक ब्याज 22 रुपये और प्रशासनिक खर्च प्रति क्विंटल 27 रुपये बैठता है।

ऐसे बढ़ता है सरकार का खर्च

इसमें एमएसपी पर होने वाला खर्च मूल लागत का हिस्सा है, जिसे खाद्य सब्सिडी में समायोजित किया जाता है। साल दर साल कैरीओवर स्टाक होने से ब्याज की दरों के साथ रखरखाव और अन्य खर्च अतिरिक्त वृद्धि हो जाती है।

गेहूं निर्यात के एक करोड़ टन के पार जाने की संभावना

चालू सीजन में सरकारी खरीद जरूरतभर होने से सरकारी खजाने पर 60 हजार करोड़ का भार कम पड़ेगा। जबकि सरप्लस अनाज के निर्यात होने से हजारों करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा प्राप्त होगी। चालू वित्त वर्ष 2022-23 में अप्रैल से जुलाई के दौरान 40 लाख टन गेहूं निर्यात का अनुमान है। पूरे साल में गेहूं निर्यात के एक करोड़ टन के पार जाने की संभावना है।

किसानों के मिली अच्‍छी कीमत

घरेलू बाजार में मांग बढ़ने से किसानों को उनकी उपज का अच्छा मूल्य मिला। एफसीआइ के पास पर्याप्त गोदाम होने की वजह से मानसून सीजन में खुले में अनाज के भीगकर सड़ने की संभावना नहीं रहेगी। भारी भरकम स्टाक से एफसीआइ के गोदामों की मरम्मत और खाद्य प्रबंधन की खामियों को दुरुस्त करने का मौका भी मिल गया है।

Editor

Editor

GazetteToday को 2017 तक लॉन्च किया गया था। डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से समाचार पेश करते हुए, GazetteToday ने अपने शुरुआती लॉन्च के तुरंत बाद महीनों में खुद का नाम बनाया।

    Next Story