खेल

Umran Malik : नदी किनारे दौड़ने वाला आज कैसे बना 'रफ्तार का सौदागर', फल बेचने वाले का बेटा SRH की टीम में ऐसे हुआ शामिल

Editor
29 April 2022 5:56 AM GMT
Umran Malik : नदी किनारे दौड़ने वाला आज कैसे बना रफ्तार का सौदागर, फल बेचने वाले का बेटा SRH की टीम में ऐसे हुआ शामिल
x

Umran Malik Fastest Ball : उमरान मलिक को आईपीएल के पिछले सीजन में टी. नटराजन के चोटिल होने के बाद सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) की टीम में शामिल किया गया था. उसके बाद उमरान अपने प्रदर्शन की बदौलत फैन्स के दिलों में जगह बना चुके हैं.


नई दिल्ली। Umran Malik Fastest Ball in IPL 2022 : सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) के तेज गेंदबाज उमरान मलिक शानदार फॉर्म में चल रहे हैं. उमरान ने बुधवार (27 अप्रैल) को गुजरात टाइटन्स के खिलाफ 5 विकेट चटकाए. इस शानदार प्रदर्शन के बाद उमरान की हर तरफ चर्चा होने लगी है और फैन्स उन्हें एशिया कप एवं टी20 वर्ल्ड कप जैसे आगामी टूर्नामेंट्स के लिए टीम में शामिल करने की मांग कर रहे हैं.

22 साल के उमरान मलिक के लिए आईपीएल तक का सफर आसान नहीं रहा है. 17 साल की उम्र तक कोई स्पेशल कोचिंग प्राप्त नहीं की और ना ही लेदर गेंद से क्रिकेट खेला. इस उम्र तक उमरान 'मोहल्ला' टेनिस बॉल टूर्नामेंट में खेलते आए थे, जहां कोई भी यूथ प्लेयर अपने ख्याति के अनुरूप 500 रुपये से 3000 रुपये के बीच कुछ भी कमा सकता है.

रणधीर मन्हास से वो मुलाकात...

साल 2017 में जम्मू कश्मीर के मौलाना अबुल कलाम स्टेडियम में उमरान जाने-माने स्थानीय कोच रणधीर मन्हास के पास पहुंचे. उस समय नेट्स में राज्य के अनुभवी बल्लेबाज जतिन वाधवन बैटिंग कर रहे थे. उमरान ने रणधीर से कहा, 'सर, क्या आप मुझे गेंद डालने देंगे?'

काफी मान-मनौव्वल के बाद रणधीर मन्हास ने उन्हें बॉल डालने की इजाजत दे दी. उमरान ने उस दिन बगैर जूते के बॉलिंग करते हुए जतिन वाधवन को चारों खाने चित कर दिया था. उमरान के टैलेंट को देखकर रणधीर मन्हास काफी प्रभावित हुए थे.

मन्हास ने कही ये बात

जम्मू डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन के कोच रणधीर मन्हास कहते हैं, 'मैंने उससे कहा कि उमरान जिस दिन तुम राष्ट्रीय स्तर पर खेलोगे, तुम्हें पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ेगा. इसलिए गंभीर रहो. मैंने उसे अंडर -19 ट्रेनिंग के लिए भेजा, जहां उसने जूते उधार लेते हुए गेंदबाजी की थी. वह कूचबिहार ट्रॉफी के लिए चुना गया, लेकिन उसे केवल ओडिशा के खिलाफ बारिश से बाधित मैच खेलने के लिए मिला.

मन्हास ने एक दिलचस्प वाकया सुनाते हुए कहा, 'उमरान एक दिन स्टेडियम में थे और असम टीम को अभ्यास के लिए नेट गेंदबाजों की जरूरत थी. अजय रात्रा ने उमरान से पूछा कि क्या वह नेट्स पर गेंदबाजी करना चाहेंगे. उमरान तुरंत सहमत हो गए लेकिन 15 मिनट के बाद असम के कोच ने उमरान को रुकने के लिए कहा क्योंकि उन्हें एक मुकाबले में भाग लेना था. रात्रा नहीं चाहते थे कि उन्हें चोट लगे.'

नदी किनारे दौड़ते थे उमरान

उमरान के मामले में, किसी को यह जानकर आश्चर्य होगा कि सनराइजर्स हैदराबाद में प्रवेश करने से पहले वह जिम सेशन का हिस्सा नहीं रहे. दरअसल. उमरान का घर तवी नदी के पास है और नदी के किनारे का आस-पास का क्षेत्र मुख्य रूप से रेतीला है. उमरान रेतीले मैदानों पर दौड़ते हुए और अपने शुरुआती वर्षों में क्रिकेट खेलते हुए बड़े हुए हैं. इससे उनका निचला शरीर काफी मजबूत बन चुका था. जहां तक ​​उनके यॉर्कर का सवाल है तो इसका श्रेय टेनिस बॉल क्रिकेट को जाता है.

उमरान के पिता करते हैं ये काम

उमरान के पिता अब्दुल मलिक स्थानीय स्तर पर फल और सब्जियों की दुकान करते हैं. उमरान ने चार साल पहले गुज्जर नगर में कंक्रीट पिच पर अपना करियर शुरू किया था. जब कभी-कभार उमरान रात को टेनिस बॉल से क्रिकेट खेलने जाते थे, तो अब्दुल मलिक अपने बेटे का पीछा करते थे. क्योंकि उन्हें डर था कि उमरान कहीं गलत रास्ते पर नहीं चला जाए.

उमरान के पिता अब्दुल मलिक ने एक इंटरव्यू में कहा था 'जानते हैं कि यह उम्र कैसी होती है. बहुत सारे युवा ऐसे हैं जो ड्रग्स आदि का सेवन कर अपनी जिंदगी खराब कर रहे हैं. मैं चिंतित था. लेकिन उन्होंने (उमरान) हमें आश्वस्त किया कि उसके पास केवल क्रिकेट का नशा है. इसलिए परिवार को चिंतित होने की जरूरत नहीं है. कभी-कभी मैं छिपकर देखता था कि वह वास्तव में खेल रहा है या नहीं. '

ऐसे हुई SRH टीम में एंट्री

उमरान मलिक को पिछले सीजन टी. नटराजन के चोटिल होने के बाद सनराइजर्स की टीम में शामिल किया गया था. उमरान के जुड़ने की कहानी काफी दिलचस्प है. दरअसल, अब्दुल समद ने उमरान के बॉलिंग वीडियो वीवीएस लक्ष्मण और टॉम मूडी को भेजे थे. सनराइजर्स को उनके वीडियो पसंद आए और बाकी की चीजें अब इतिहास बन चुकी हैं. अब्दुल समद भी कश्मीर से ताल्लुक रखते हैं और मौजूदा आईपीएल में सनराइजर्स का पार्ट हैं.

Editor

Editor

GazetteToday को 2017 तक लॉन्च किया गया था। डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से समाचार पेश करते हुए, GazetteToday ने अपने शुरुआती लॉन्च के तुरंत बाद महीनों में खुद का नाम बनाया।

    Next Story