अंतर्राष्ट्रीय समाचार

किसानों के लिए अंतिम मौका, पंजीकरण कराने वाले किसान MSP पर बेच सकेंगे चना, जानें अंतिम तारीख

Editor
22 Jun 2022 6:18 AM GMT
किसानों के लिए अंतिम मौका, पंजीकरण कराने वाले किसान MSP पर बेच सकेंगे चना, जानें अंतिम तारीख
x
किसानों के लिए अंतिम मौका, पंजीकरण कराने वाले किसान MSP पर बेच सकेंगे चना, जानें अंतिम तारीख

रबी फसलों की खरीद अंतिम दौर में चल रही है। कई राज्यों में इसकी लगभग खरीद पूरी हो चुकी है। ऐसे में राजस्थान सरकार की ओर से किसानों से चने की खरीद की जा रही है। इसके लिए किसानों के पंजीयन किए जा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के मुताबिक किसान एमएसपी यानि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अपनी चने की फसल बेचने के लिए 24 जून 2022 तक पंजीयन करा सकते हैं।

राजस्थान में क्या है चना खरीद की अंतिम तिथि
इस संबंध में राजस्थान के सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि एक अप्रैल से समर्थन मूल्य पर शुरू हुई चना खरीद 29 जून तक होगी, इसके लिए किसानों को डेट आवंटित कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि जिन किसानों द्वारा 24 जून, 2022 तक पंजीयन करा लिया जाएगा, ऐसे किसानों को उपज बेचने की दिनांक आवंटित कर खरीद की जाएगी।

भारत सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर चना खरीद 90 दिन की अवधि तक करने के निर्देश दिए गए है। जिसके तहत राज्य सरकार किसानों से 29 जून तक चना खरीदेगी। उन्होंने किसानों से आग्रह किया है कि जिन किसानों को समर्थन मूल्य पर चना का बेचान करना है, वे ई-मित्र या खरीद केंद्र पर जाकर 24 जून तक अपना पंजीयन अवश्य करा लें।

एक किसान एमएसपी पर कितना चना बेच सकेगा
राज्य में अब एक किसान 40 क्विंटल तक चना बेच सकता है। इससे पहले एक किसान केवल 25 क्विंटल तक चना बेच सकता था। इस वर्ष राजस्थान सरकार ने किसानों के हित में फैसला लेते हुए चने के लक्ष्य को बढ़ा दिया है। इससे अब किसानों से अधिक से अधिक चने की खरीद की जा सकेगी।

क्या है चने का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2022-23 (‎Minimum Support Price 2022-23)
केंद्र सरकार प्रति वर्ष खरीफ तथा रबी फसलों को मिलाकर कुल 23 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य जारी करती है। इस मूल्य पर ही सभी सरकारी एजेंसियां फसलों की खरीदी करती है। रबी वर्ष 2022-23 के लिए चने का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5230 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है। बता दें कि इसमें चने की क्वलिटी के हिसाब से चने की खरीद की जाएगी।

किन जिलों के किसान करा सकते हैं पंजीयन
राज्य के सहकारिता मंत्री श्री आंजना ने बताया कि चना खरीद की पंजीयन सीमा 20 प्रतिशत बढ़ाने से राज्य के 22 जिलों यथा अजमेर, अलवर, बारां, भीलवाड़ा, बीकानेर, बूंदी, चित्तौडगढ़, दौसा, जयपुर, जैसलमेर, जालौर, झालावाड़, झुंझुनू, जोधपुर, नागौर, पाली, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सीकर, श्रीगंगानगर, टोंक, उदयपुर जिलों के संबंधित 152 केंद्रों पर किसान पंजीयन करवा सकेंगे।

किसान कैसे कराएं चना बेचने के लिए पंजीयन
राजस्थान के किसान एफसीआई के खरीद केंद्रों के लिए किसान अपना रजिस्ट्रेशन किसी भी ई-मित्र केंद्र से करवा सकते हैं। इसके लिए किसान भाई अपने साथ बैंक पासबुक, आधार कार्ड, गिरदावरी सक्षम स्तर से जारी प्रमाण पत्र साथ लेकर जाएं। राजफेड नेफेड एवं तिलम संघ खरीद एजेंसियों के लिए किसान अपना पंजीयन खरीद केंद्रों के माध्यम से करवा सकेंगे। किसानों के सत्यापन के लिए जन आधार कार्ड जरूरी होगा। किसानों को पंजीयन केंद्र पर बैंक पासबुक की छायाप्रति चेक एवं गिरदावरी सहित सक्षम स्तर से जारी प्रमाण पत्र देना होगा।

अभी तक कितने किसानों को किया गया चना खरीदी का भुगतान
अभी तक 60 हजार से अधिक किसानों को किया गया भुगतान राजस्थान में 635 खरीद केन्द्रों पर चना बेचने के लिए 1 लाख 44 हजार 944 किसानों ने 16 जून, 2022 तक पंजीयन कराया है, इसमें से 1 लाख 22 हजार 893 किसानों को दिनांक आवंटित कर 93 हजार 683 किसानों से 2 लाख 5 हजार 433 मीट्रिक टन की खरीद की गई है। जिसकी राशि 1 हजार 74 करोड़ रूपये है। राज्य में अभी तक 60 हजार 571 किसानों को 667 करोड़ रूपये का भुगतान उनके खाते में किया जा चुका है।

किसी भी समस्या के लिए किसान इस टोल फ्री नंबर पर ले सकते हैं जानकारी
किसानों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, उपज के बेचान और भुगतान आदि के संबंध किसी प्रकार की समस्या न हो इसके लिए टोल फ्री नंबर भी जारी किया गया है। किसान टोल फ्री नंबर 18001806001 पर फोन कर अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं।

ट्रैक्टर जंक्शन हमेशा आपको अपडेट रखता है। इसके लिए ट्रैक्टरों के नये मॉडलों और उनके कृषि उपयोग के बारे में एग्रीकल्चर खबरें प्रकाशित की जाती हैं। प्रमुख ट्रैक्टर कंपनियों महिंद्रा ट्रैक्टर, स्वराज ट्रैक्टर आदि की मासिक सेल्स रिपोर्ट भी हम प्रकाशित करते हैं जिसमें ट्रैक्टरों की थोक व खुदरा बिक्री की विस्तृत जानकारी दी जाती है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

Editor

Editor

GazetteToday को 2017 तक लॉन्च किया गया था। डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से समाचार पेश करते हुए, GazetteToday ने अपने शुरुआती लॉन्च के तुरंत बाद महीनों में खुद का नाम बनाया।

    Next Story